बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing)

बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing)

Contents View hide

छींक आना क्या है? (What is Sneezing in Hindi?)

नाक में म्यूकस झिल्ली होती है, जिसके उत्तक और कोशिकाएं बहुत संवेदनशील होती हैं, इसलिए किसी भी प्रकार के बाहरी अनुकूलन वस्तु या तेज गन्ध के संपर्क में आने से छींक आती है। जब कोई बाहरी कण जैसे धूल आपकी नाक में घुस जाता है, तो नाक में गुदगुदी होती है, और मस्तिष्क के एक विशेष भाग में संदेश होता है। इसके बाद मस्तिष्क की मांसपेशियों को बाहरी कण को ​​बाहर निकालने का संदेश देता है। इससे छींक आती है। यह कैंट मुंह और नाक के दरवाजे से तेज बहाव से बाहर आते हैं।

छिकंक आने के कारण (Sneezing Causes)

छींक आने के ये कारण हो सकते हैं :-

ज्यादा तर धूल, धुँआ और तेज गन्ध के संपर्क में आने से नाक के भीतर की म्यूकस झिल्ली उत्तेजित हो जाती है, इससे छींक आती है।
प्रदूषण युक्त वातावरण में रहने से।
सर्दी या जुकाम होने पर छींक आता है, क्योंकि सर्दी-जुकाम होने पर नाक के अंदर की म्यूकस झिल्ली में सूजन आ जाती है।
सभी से ग्रस्त रोगियों में पराग कणों के संपर्क में आने की वजह से।
किसी दवा के बचाव के कारण छींक की समस्या हो सकती है।

छींक की समस्या के लक्षणSneezing Symptoms)

जब ऐसी अवस्था हो जाए तो छींक को बीमारी मान लेना चाहिए:
लग का लाल होना।
नाक से लगातार पानी बहना।
नाक में खुजली होना।
सिर में दर्द और भारीपन
चिड़चिड़ापन
सूंघने की शक्ति का कम हो जाना।

छींक की परेशानी के लिए घरेलू उपचार (घरेलू उपचार छींकने के लिए हिंदी में)

आप इन उपायों से छींक की समस्या से निजात पाने (छींकने के उपाय) पा सकते हैं: –

अदरक बार-बार छींक आने का इलाज में फायदेमंद (अदरक: घरेलू उपचार छींक रोकने के लिए)

एक स्वर अदरक का रस लें। इसमें आधा स्पंज ग्राम सम्मिलित दिन में दो बार खांसी होगी। यह छींक की समस्या से राहत (छींकने का उपाय) relity है।

गन्ने का रस पीने से जड़ से समाप्त हो जाते है यह 4 रोग IN HINDI

दालचीनी का प्रयोग कर छींक का इलाज के लिए फायदा मन है ,(Dalchini: Home Remedy for Sneezing in Hindi)

एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच शहद और आधा चम्मच दालचीनी पाउडर सहित पिएँ। यह छींक से आराम (छींकने का उपाय) दूरता है।

लगातार छींक आने पर हींग से फायदा उपयोग करे। (Hing: Home Remedies to Treat Sneezing in Hindi)

लगातार छींक आने पर थोड़ी-सी हींग लें। इसकी गंध को सूंघे। यह उपाय आपको बार-बार छींक आने की समस्या से राहत पहुंचाता है।

बार-बार छींक आने पर पुदीना का प्रयोग (पेपरमिंट: घरेलू उपचार के लिए छींकने की समस्या)

उबलते हुए पानी में पुदीने के तेल की कुछ बूंदे डाल दें। इसकी भाप लें। यह उपाय छींक की समस्या में बहुत फायदा पहुंचाता है।

लगातार छींक आने पर अजवाइन से लाभ होता है । (Ajwain: Home Remedies for Sneezing Treatment in Hindi)

एक गिलास पानी में एक चम्मच अजवाइन डालकर उबालें। गुनगुना होने पर छान लें। इसमें पिंक सहित हनी शामिल हैं।
10 ग्राम अजवाइन और 40 ग्राम पुरानी गुड़ को 450 मि.ली. पानी में उबाल। जब आधा पानी रह जाए, तो पानी को ठण्डा होने पर पी लें। इसके बाद हविहित स्थान पर आराम करें।

हल्दी के सेवन से छींक का इलाज (हल्दी: घरेलू उपचार के लिए छींक आना)

हल्दी में सभी से राहत पाने की क्षमता होती है। भोजन में हल्दी का प्रयोग अवश्य करें। इसके साथ ही दूध में हल्दी डालकर पिएँ। छींक के इलाज हल्दी बहुत फायदेमंद तरीके से काम करते हैं।



गन्ने का रस पीने से जड़ से समाप्त हो जाते है यह 4 रोग IN HINDI

SMALL BUSINESS IDEAS

छींक की समस्या में मुलेठी से फायदा (मुलेठी: घरेलू उपचार छींकने का इलाज हिंदी में)

मुलेठी के चूर्ण को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इसकी भाप लें। मुलेठी का प्रयोग छींक की परेशानी में लाभदायक साबित होता है।

लगातार छींक आने पर यूकेलिप्टस का प्रयोग लाभदायक (नीलगिरी: घरेलू उपचार के लिए छींक का उपचार)

उबलते हुए पानी में यूकेलिप्टस के तेल की कुछ बूंदे डालकर भाप लें। इससे छींक आने और बंद नाक की समस्या में काफी आराम मिलता है।

बार-बार छींक आने पर नींबू का उपाय लाभकारी (नींबू: घरेलू उपचार छींक का इलाज हिंदी में)

एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद और आधा नींबू का रस मिलाकर पिएँ। यह उपाय लगातार छींक आने की समस्या में लाभ पहुंचाता है।

छींक आने से परेशान है तो क्या लहसुन का प्रयोग करे (Garlic: Home Remedy for Sneezing in Hindi)

लहसुन की 3-4 कली को पीसकर एक गिलास पानी में उबालें। इस पानी को छानकर गुनगुना करके दिन में दो बार पिएँ।

और पढ़ें: लहसुन के फायदे और नुकसान

छींक रोकने के घरेलू उपाय में मेथी का इस्तेमाल (मेथी: घरेलू उपचार छींकने का हिंदी में)

दो चम्मच मेथी के बीज को पीसकर पानी में उबालें। गुनगुना होने पर इसे पी लें। दिन में दो बार इसका सेवन करने से आराम मिलता है।

छींक को रोकने के लिए सौंफ का इस्तेमाल करना फायदा मन होता है। (Saunf: Home Remedies to Stop Sneezing in Hindi)

छींक रोकने के उपाय में से सौंफ चाय लाभकारी (गाल रोकेने के ऊपर) साबित हो सकती है।
एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ डालकर उबालें, और गरम-गरम ही पिएँ।

छींक रोकने के घरेलू उपाय में सरसों के तेल का उपयोग (सरसों का तेल: घरेलू उपाय छींक रोकने की समस्या हिंदी में)

सरसों का तेल नाक में 2-3 बूंद डालें। तेल को ऊपर की ओरियानो। इससे छींक आनी बन्द हो जाती है। यह बहुत प्रभावी उपाय है।

लगातार छींक आने की समस्या से निजात के लिए संतरे का उपयोग (नारंगी: घरेलू उपचार सेंट

 

गन्ने का रस पीने से जड़ से समाप्त हो जाते है यह 4 रोग IN HINDI

ऑनलाइन पैसे कमाएं

SMALL BUSINESS IDEAS



One thought on “बार-बार छींक आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय (Home Remedies for Sneezing)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy Right By 2020 @ EARNING BLOGGING (MITHLESH MAURYA)